समाचार विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Save This Listing     Stumble It          
 

 April Fool 2017: ऐसे हुई थी इसकी शुरुआत, जानिए क्या है 'अप्रैल फूल' का इतिहास (Sat, Apr 1st 2017 / 12:55:56)

एक अप्रैल आते ही लोगों के दिमाग में दोस्तों को मूर्ख बनाने के लिए कोई ना कोई खुरापात चलने लगती है. हालांकि किसी को फूल बनाने के पीछे मकसद यही होता है कि लोगों के चेहरे पर मुस्कान आए. अप्रैल फूल डे यानि मूर्खता दिवस की शुरुआत कैसे हुई और सबसे पहले इसको कहां व कैसे मनाया गया, ये सवाल सभी के मन में आता है. अप्रैल फूल डे के शुरुआत को लेकर कोई एक मान्यता या स्टोरी नहीं है, इसको लेकर कई अनेक मान्यताएं हैं. सर्वाधिक प्रचलित मान्यता ब्रिटेन के लेखक चॉसर की पुस्तक द कैंटरबरी टेल्स की एक कहानी पर आधारित है.
ऐसे हुई थी अप्रैल फूल डे की शुरुआत
चॉसर ने अपनी इस पुस्तक में कैंटरबरी का उल्लेख किया है जहां 13वीं सदी में इंग्लैंड के राजा रिचर्ड सेकेंड और बोहेमिया की रानी एनी की सगाई 32 मार्च 1381 को आयोजित किए जाने की घोषणा की जाती है. कैंटरबरी के जन-साधारण इसे सही मान लेते हैं यद्यपि 32 मार्च तो होता ही नहीं है.
इस प्रकार इस तिथि को सही मानकर वहां के लोग मूर्ख बन जाते हैं, तभी से एक अप्रैल को मूर्ख दिवस अर्थात अप्रैल फूल डे मनाया जाने लगा. वैसे तो अप्रैल फूल डे पश्चिमी सभ्यता की देन है लेकिन यह विश्व के अधिकांश देशों सहित भारत में भी धूमधाम से मनाया जाता है.
यह भी पढ़ें: अप्रैल फूल 2017: इन SMS से पटा पड़ा है वाट्सएप और सोशल मीडिया
भारतीय कैलेंडर की भी है मान्यता
ऐसा भी कहा जाता है कि पहले पूरे विश्व में भारतीय कैलेंडर की मान्यता थी. जिसके अनुसार नया साल चैत्र मास में शुरू होता था, जो अप्रैल महीने में होता था. बताया जाता है कि 1582 में पोप ग्रेगोरी ने नया कैलेंडर लागू करने के लिए कहा. जिसके अनुसार नया साल अप्रैल के बजाय जनवरी में शुरू होने लगा और ज्यादातर लोगों ने नए कैलेंडर को मान लिया.
हालांकि कुछ ऐसे लोग भी थे, जिन्होंने नए कैलेंडर को मानने से इनकार कर दिया और अप्रैल में ही नया साल मनाने लगे. इस कारण उन्हें मूर्ख कहा जाने लगा और यहीं से 1 अप्रैल को अप्रैल फूल डे मनाया जाने लगा.
यह भी पढ़ें: April Fool 2017: इन प्रैंक्स से बनाएं अपने दोस्तों को फूल
यह भी है अप्रैल फूल को लेकर मान्यता
अपरोक्त मान्यताओं के अलावा अप्रैल फूल डे को लेकर और भी कई मान्यताएं हैं. जिनमें एक यह भी है कि साल 1564 से पहले यूरोप के अधिकांश देशों मे एक जैसा कैलंडर प्रचलित था, जिसमें नया साल एक अप्रैल से शुरू होता था. 1564 में वहां के राजा चार्ल्स नवम् ने एक नया कैलेंडर अपनाने का आदेश दिया, जिसमें एक जनवरी से नया साल माना गया था.
ज्यादातर लोगो ने इस नए कैलंडर को अपना लिया, लेकिन कुछ लोगों ने इस नए कैलंडर को अपनाने से इनकार कर दिया. वे लोग एक अप्रैल को ही साल का पहला दिन मानते थे. इन लोगों को मूर्ख समझकर नया कैलंडर अपनाने वालों ने एक अप्रैल को 'फूल्स डे' के रूप में मनाया.

 
  समान समाचार  
ऐसे होगा पतली कमर या 0 फिगर पाने का सपना पूरा
ये रहे लड़कों के वो ट्रिक्स, जिनके बारे में नहीं जानती लड़कियां...
गर्मियों में लू: लक्षण, कारण और बचाव के घरेलू उपाय...
नवरात्र स्पेशल: पोषण-तत्वों से भरपूर है कुट्टू का आटा
नवरात्र के उपवास रख रहे हैं, तो जरूर ध्यान रखें ये 10 बातें
गर्मियों में आपको ठंडक का अहसास देंगे ये कलर्स
गर्मियों में ऐसे करें बालों की देखभाल, नहीं होगा नुकसान
अगर करते हैं सनस्क्रीन का उपयोग तो अपनी त्वचा के लिए ऐसे चुनें क्रीम
दिखना चाहती हैं ऑफिस में स्टाइलिश और फैशनेबल, पहनें ऐसे कपड़े
ये हैं टॉप 5 ब्राइडल की समस्याएं और उनके समाधान
प्रकृति से है प्रेम तो खुले मैदान में खेलें!
ज्यादा वजन वाली महिलाओं को गर्भधारण करने में लगता है अधिक समय: शोध
आज की तस्वीरें  
सभी फोटो गैलरी देखें
 
समाचार चैनल  
स्थानीय ख़बरें
राजनीति
खेल खबर
स्वास्थ्य
उद्योग-व्यापर
अपराध
योग-व्यायाम
जीवन शैली
धर्म-आस्था
राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय
रोजगार-कैरियर
मनोरंजन
न्यायालय-आदेश
अनुसंधान-प्रयोग
सरकार-शासन
गैजेट&ऑटोमोबाइल
अजब गजब
 
राज्य समाचार  
मध्य प्रदेश
 
राशिफल   
 
लाइव अपडेट  

Advertise With Us

संपकॆ करेॆ-
Bhupendra Singh
प्रधान संपादक
Super Fast News
mob.: +8819917385
             7000772733

bhupendranews11@gmail.com
अपना सन्देश लिखें:

 
 
 
 
 
होम  | मनोरंजन  | स्थानीय ख़बरें  | उद्योग-व्यापर  | जीवन शैली  | रोजगार-कैरियर  | स्वास्थ्य  | राजनीति  | योग-व्यायाम  | सरकार-शासन  | खेल खबर  | अनुसंधान-प्रयोग  | धर्म-आस्था  | अपराध  | अजब गजब  | राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय  | गैजेट&ऑटोमोबाइल  | न्यायालय-आदेश  | राजस्थान  | उत्तर प्रदेश  | हिमाचल प्रदेश  | हरयाणा  | छत्तीसगढ़  | बिहार  | पांडिचेरी  | जम्मू और कश्मीर  | दादरा और नगर हवेली  | सिक्किम  | पश्चिम बंगाल  | नगालैंड  | मध्य प्रदेश  | आंध्र प्रदेश  | झारखंड  | दमन और दीव  | कर्नाटक  | मणिपुर  | दिल्ली  | अंडमान एवं निकोबार  | उड़ीसा  | तमिलनाडु  | पंजाब  | मिजोरम  | केरल  | लक्षद्वीप  | मेघालय  | महाराष्ट्र  | गोवा  | त्रिपुरा  | असम  | उत्तरांचल  | अरुणाचल प्रदेश  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
superfastnews.co.in Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Design & Development By MakSoft
 
Hit Counter