समाचार विवरण  
 Mail to a Friend Print Page   Share This News Rate      
Save This Listing     Stumble It          
 

 लॉन्च के लिए तैयार है देश का सबसे बड़ा रॉकेट जीएसएलवी मार्क 3, जानें इसकी खूबियां (Mon, Jun 5th 2017 / 12:17:52)

बेंगलुरु: देश के सबसे बड़े रॉकेट जीएसएलवी मार्क 3 के लॉन्च का काउंट डाउन शुरू हो चुका है. ये अब तक का भारत का सबसे भारी रॉकेट है जो पूरी तरह देश में ही बना है. इसमें देश में ही विकसित क्रायोजेनिक इंजन लगा है. ये रॉकेट एक बड़े सैटेलाइट सिस्टम को अंतरिक्ष में स्थापित करेगा. इस रॉकेट की कामयाबी से भविष्य में अंतरिक्ष यात्रियों को भेजने में भारत का रास्ता साफ़ हो जाएगा.
यह रॉकेट संचार उपग्रह जीसैट-19 को लेकर जाएगा. जीएसएलवी मार्क 3 रॉकेट को सोमवार शाम 5 बजकर 28 मिनट पर श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र के दूसरे लॉन्च पैड से उड़ान भरना है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा, जीएसएलवी मार्क 3 के प्रक्षेपण के लिए 25 घंटे से अधिक की उल्टी गिनती अपराह्न तीन बजकर 58 मिनट पर शुरू हुई. इसरो अध्यक्ष एस एस किरण कुमार ने कहा कि मिशन महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह अब तक का सबसे भारी रॉकेट और उपग्रह है जिसे देश से छोड़ा जाना है.
उन्होंने संवाददाताओं से कहा, जीएसएलवी एमके थ्री-डी 1 और जीसैट-19 मिशन के लिए सारी गतिविधियां चल रही हैं. सोमवार शाम पांच बजकर 28 मिनट पर हम प्रक्षेपण की उम्मीद कर रहे हैं. अब तक 2300 किलोग्राम से अधिक वजन के संचार उपग्रहों के लिए इसरो को विदेशी लॉन्चरों पर निर्भर रहना पड़ता था. जीएसएलवी मार्क 3 4000 किलोग्राम तक के पेलोड को उठाकर भूतुल्यकालिक अंतरण कक्षा (जीटीओ) और 10 हजार किलोग्राम तक के पेलोड को पृथ्वी की निचली कक्षा में पहुंचाने में सक्षम है.
जीएसएलवी मार्क 3 से जुड़ी खास बातें...
- 640 टन का वजन, भारत का ये सबसे वजनी रॉकेट है
- नाम है जीएसएलवी मार्क 3 जो पूरी तरह भारत में बना है
- इस प्रोजेक्ट को पूरा करने में 15 साल लगे. इस विशाल रॉकेट की ऊंचाई किसी 13 मंजिली इमारत के बराबर है और ये चार टन तक के उपग्रह लॉन्च कर सकता है.
- अपनी पहली उड़ान में ये रॉकेट 3136 किलोग्राम के सेटेलाइट को उसकी कक्षा में पहुंचाएगा
- इस रॉकेट में स्वदेशी तकनीक से तैयार हुआ नया क्रायोजेनिक इंजन लगा है, जिसमें लिक्विड ऑक्सीजन और हाइड्रोजन का ईंधन के तौर पर इस्तेमाल होता है.
कैसे काम करता है जीएसएलवी मार्क-3 रॉकेट
- पहले चरण में बड़े बूस्टर जलते हैं
- उसके बाद विशाल सेंट्रल इंजन अपना काम शुरू करता है
- ये रॉकेट को और ऊंचाई तक ले जाते हैं
- उसके बाद बूस्टर अलग हो जाते हैं और हीट शील्ड भी अलग हो जाती हैं
- अपना काम करने के बाद 610 टन का मुख्य हिस्सा अलग हो जाता है
- फिर क्रायोजेनिक इंजन काम करना शुरू करता है
- फिर क्रायोजेनिक इंजन अलग होता है
- उसके बाद संचार उपग्रह अलग होकर अपनी कक्षा में पहुंचता है
- भविष्य में ये रॉकेट भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाने का काम करेगा.

 
  समान समाचार  
ब्रह्मोस मिसाइल का दूसरा परीक्षण सफल, जाने क्या रही खूबियां...
पेटीएम ने वापस लिया 2 फीसदी चार्ज लगाने का फैसला, 8 मार्च को ही लगाया था चार्ज
भारत का लापता चंद्रयान-1 अब भी कर रहा चंद्रमा की परिक्रमा : नासा
अब दवा खरीदी में भी AADHAAR अनिवार्य करने जा रही है सरकार
1GB-3G डाटा मात्र 21 रुपए में: ट्राई की योजना
भारतीय वैज्ञानिकों ने खोजे मोबाइल फोन पर पनपने वाले 'ढीठ' बैक्टेरिया
हमला कर वापस आने वाली मिसाइल बनाएगा भारत
नासा अगले साल सूर्य पर भेजेगा अंतरिक्षयान!
साल 2018 में दो पर्यटकों को चांद के पास भेजेगा स्पेसएक्स
जो दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने सोचा भी नहीं था उसे हमने कराया पेटेंट
एयरक्राफ्ट की गति से दौड़ेगी सुपर कंडक्टिव मैग्नेटिक ट्रेन
Nokia 3310 की पहली जानकारी लीक, इतनी होगी कीमत
आज की तस्वीरें  
सभी फोटो गैलरी देखें
 
समाचार चैनल  
स्थानीय ख़बरें
राजनीति
खेल खबर
स्वास्थ्य
उद्योग-व्यापर
अपराध
योग-व्यायाम
जीवन शैली
धर्म-आस्था
राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय
रोजगार-कैरियर
मनोरंजन
न्यायालय-आदेश
अनुसंधान-प्रयोग
सरकार-शासन
गैजेट&ऑटोमोबाइल
अजब गजब
 
राज्य समाचार  
मध्य प्रदेश
 
राशिफल   
 
लाइव अपडेट  

Advertise With Us

संपकॆ करेॆ-
Bhupendra Singh
प्रधान संपादक
Super Fast News
mob.: +8819917385
             7000772733

bhupendranews11@gmail.com
अपना सन्देश लिखें:

 
 
 
 
 
होम  | राजनीति  | मनोरंजन  | रोजगार-कैरियर  | जीवन शैली  | न्यायालय-आदेश  | स्थानीय ख़बरें  | धर्म-आस्था  | अजब गजब  | अनुसंधान-प्रयोग  | सरकार-शासन  | खेल खबर  | उद्योग-व्यापर  | स्वास्थ्य  | गैजेट&ऑटोमोबाइल  | राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय  | योग-व्यायाम  | अपराध  | आंध्र प्रदेश  | पश्चिम बंगाल  | नगालैंड  | बिहार  | लक्षद्वीप  | दिल्ली  | पांडिचेरी  | त्रिपुरा  | दमन और दीव  | कर्नाटक  | उड़ीसा  | जम्मू और कश्मीर  | मध्य प्रदेश  | अरुणाचल प्रदेश  | महाराष्ट्र  | दादरा और नगर हवेली  | केरल  | सिक्किम  | छत्तीसगढ़  | राजस्थान  | हरयाणा  | अंडमान एवं निकोबार  | हिमाचल प्रदेश  | असम  | झारखंड  | मिजोरम  | उत्तरांचल  | तमिलनाडु  | मणिपुर  | गोवा  | पंजाब  | मेघालय  | उत्तर प्रदेश  | नियम एवं शर्तें  | गोपनीयता नीति  | विज्ञापन हमारे साथ  | हमसे संपर्क करें
superfastnews.co.in Copyrights 2016-2017. All rights reserved. Designed & Developed by : superfastnews.co.in
 
Hit Counter